Knowledge is the responsibility to guide others with humility

इस फॉर्म को भरकर हमसे संपर्क करें, आपको तुरंत जवाब दिया जायेगा

Your Name (required)

Your Email (required)

Mobile No. (required)

Your Message

वेदांग ज्योतिष सीखें

ज्योतिष एक बहुत बड़ा और गूढ़ विषय है और इसे गहनता से सीखने के लिए और एक अच्छा ज्योतिषी बनने के लिए  समय, समर्पण, परिश्रम और अभ्यास की आवश्यकता है।

पहले इस विद्या के बुनियादी नियमों अवं गूढतम रहस्यों को समझते हुए अपना आधार (नींव) मजबूत बनाना बेहद जरुरी है। वैदिक संस्कृति एवं इसकी विशेषताओं के अध्ययन द्वारा इसको आत्मसात किया जा सकता है I ज्योतिष को वेदों का अंग (नेत्र) कहा जाता है,​ ​ज्योतिष में वो दिव्य ज्योति है जो हमारा मार्गदर्शन कर सकती है अतः इस विषय को सनातन धर्म एवं वेदों के अध्ययन द्वारा और गहनता से समझा जा सकता है I ज्योतिष विद्या का आधार सनातन धर्म​ ही​ है ​I

​संकटों से निवारण हेतु, ज्ञानिओं द्वारा बताए विभिन्न लाभदायक वैदिक उपाय (मंत्र, यन्त्र, तंत्र, हवन, दान, विधिविधान अदि) भी हमें इन ग्रंथों में मिलते हैं I

ऐसा करते हुए ज्योतिष विषय के मूल सिद्धान्तो और महान भविष्यदृष्टाओं एवं महार्षियों द्वारा रचित रचनाओं को समझते हुए इस गुप्त विद्या के विशाल समुद्र में सुगमता से तैरा जा सकता है और ज्ञानार्जन किया जा सकता है I

सृष्टि निर्माणकर्ता ब्रम्ह देव ने मनुष्य जाति के कल्याण के लिए स्वयं अपने मुख से ज्यातिष अर्थात् वेद एवं वेदांग को भविष्यदृष्टा मनीषियों एवं महार्षियों को प्रवचन (बताया) दिया जो बाद में इस वैदिक गुप्त ज्ञान को गुरू-शिष्य परम्परा (गुरूकुल) के माध्यम द्वारा आजतक विद्यमान है। अतः इस  विद्या को मनुष्यता के खिलाफ या अनैतिक उद्देश्यों की पूर्ती के लिये अगर कोई उपयोग करता है तो उसका यह कृत्य ईश्वर की दृष्टि में अक्षम्य​ होता है।

वृहत् पराशर होरा शास्त्र में भारतीय ज्योतिष के एक मूर्धन्य विद्वान महार्षि पाराशर ने अपने शिष्य मैत्रेय से कहा कि मनुष्य के कल्याण के लिए गुप्त विद्या उस मनुष्य को देना चाहिए जो शांतिप्रि हो​,​​ धार्मिक​ ​​हो​​, ​जिसके लिये गुरू आदरणीय अवं विश्वसनीय हों, एवं वह​ ​सत्य वचन बोलने वाला हो।

जितना अधिक आप वैदिक ज्योतिष सीखते जाएंगे उतना ही आप अपने आप को गहराई से समझ पाएंगे ।आप अपने आसपास की विभिन्न परिस्थितियों को समझेंगे, अपने चरित्र, आपकी क्षमताओं, अपनी कमियों/कमजोरियों आदि को जानेंगे I

गहन अध्ययन, दृढ़ता और विभिन्न वास्तविक जीवन स्थितियों (कुंडली) में ज्ञान के व्यावहारिक प्रयोग द्वारा, आप एक पेशेवर ज्योतिष बन सकते हैं और इस दिव्य ज्ञान के साथ दूसरों की मदद कर सकते हैं।​
स्वयं, वैदिक उपचारों का पालन करके आप सबसे पहले उनसे लाभ लेंगे और अपने जीवन की समस्याओं को कम करेंगे। नतीजतन, दिव्य ज्ञान में आपका विश्वास समय के साथ और अधिक विकसित होगा। इसके उपरांत, आप दूसरों की समस्याओं को हल करने, दूसरों को ठीक करने / लोगों की मदद करने में निस्संदेह सक्षम होंगे ।

सभी अध्ययन सामग्री का स्रोत भारतीय ज्योतिष की पुस्तकें और हिंदू शास्त्र (वेद, उपनिषद, भगवद गीता, रामायण, महाभारत और विभिन्न पुराण) हैं। उचित स्थानों पर, विषय पर अधिक जानकारी के लिए संदर्भ उद्धृत किए गए हैं।

सर्वतोभद्र ज्योतिष कोर्स की मुख्य विशेषताएं :

  • हिन्दू शास्त्रों और सनातन धर्म की शिक्षाओं पर आधारित वेदांग ज्योतष का गहराई में अध्ययन​​
  • ज्योतिष कोर्स महार्षि पाराशर, महार्षि जैमिनी, मुनी सत्याचार्य, श्री वरहामिहिरा, श्री वेंकटेश शर्मा और कई अन्य दैवज्ञों की शिक्षाओं/ उपदेशों पर आधारित है​
  • ज्योतिष वीडियो व्याख्यान हिन्दी / अंग्रेजी भाषा में दिए जाते हैं, जिन्हें इंटरनेट के माध्यम से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं और अपनी सुविधानुसार देख / सुन सकते हैं I वीडियो व्यख्यान (video lessons) देखने के बाद मन में उठने वाले सभी प्रश्नों को निजी समूह में पोस्ट कर सकते हैं जिसके उत्तर जल्द ही दिए जाते हैं
  • सभी विद्यार्थियों का सतत मार्गदर्शन दिया जाता है ताकि वे बिना किसी भ्रम, भटकाव, निराशा या विफलताओं के ज्योतिष के सही मार्ग पर आगे बढे और साथ ही अपने ज्ञान का विकास करें​
  • WhatsApp और FaceBook के निजी समूह (group) के माध्यम से विद्यार्थी स्वतंत्र रूप से गुरु और दूसरे सहपाठियों के साथ बातचीत करते हैं, विषय की चर्चा करते हैं सवाल पूछ सकते हैं, जिससे रोज ज्ञान का आदान प्रदान होता हैं और एक मित्रता के माहौल में सीखते हैं​
  • ग्रुप मेंबर्स को सबसे पहले अपने खुद की जन्मपत्रिका को देखना सिखाया जाता हैं ताकि वे सक्षमता से उनके शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक, प्रोफेशनल रूप को बहेतर तरीके से समझ सकें​
  • इसिके साथ लगातार प्रश्न स्पर्धा आयोजित की जाती हैं, जिसके माध्यम से विद्यार्थी सही ज्ञान प्राप्त कर सके और उस ज्ञान को पूरी तरह अपना सकें​
  • बुद्धिमान और समर्पित समूह के सदस्य: चर्चा करने, विचारों का आदान-प्रदान करने और सीखने के लिए एवं लंबे समय तक ज्योतिष अध्धयन को प्रेरित रहने के लिए उपयुक्त वातावरण बनाते हैं​
  • समूह के सदस्य विविध पृष्ठभूमि, उम्र और व्यवसाय से हैं: सभी विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहे हैं जैसे कॉर्पोरेट, व्यापारी, सरकार, ज्योतिष, पंडित, अन्य
  • सभी अध्यापन सामग्री भारतीय ज्योतिष शास्त्र की किताबों और विभिन्न हिन्दू वेद उपनिषद भगवतगीता, रामायन, महाभारत और विभिन्न पुराणों से ली गयी है। विद्यार्थीयों के लिए विषय-वस्तु को और अधिक गहनता से समझने के लिए उचित स्थानों पर संदर्भ का वर्णन दिया गया है।

ज्योतिष कोर्स: फीस और अवधि​

ज्योतिष कोर्स की अवधि​ 4 वर्ष है I

आप अपने ज्योतिष सीखने की लय चुन सकते हैं और फीस का चयन कर सकते हैं जो भी आपके लिए सबसे उपयुक्त हो

इस फीस में निजी FaceBook और WhatsApp ग्रुप  की मासिक सदस्यता शामिल है।

निम्नलिखित चार विकल्प उपलब्ध हैं:

1. 3 घंटे की अवधि के ज्योतिष वीडियो लैसन / महीना = 1100 ₹ / 18 €

2. 6 घंटे की अवधि के ज्योतिष वीडियो लैसन / महीना = 2200 ₹ / 36 €

3. 36 घंटे की अवधि  के ज्योतिष वीडियो लैसन (1/2 वर्ष) = 13200 ₹ / 216 €

(5% छूट, तो आप 12540 ₹ / 205 € का भुगतान करते हैं)

4. 72 घंटे की अवधि के ज्योतिष वीडियो लैसन (1 वर्ष) = 26400 ₹ / 432 €

(10% छूट, तो आप 23760 ₹ / 389 €  का भुगतान करते हैं)​

SarvatoBhadra Fees Details Learning Jyotish

यदि आप ज्योतिष शास्त्र को एक पद्धतिगत तरीके से सीखना चाहते हैं तो कृपया गौरव दवे से संपर्क करें​

​Email (gauravdave.gdave@gmail.com, dave@sarvatobhadra.com),

WhatsApp/telephone (0033625750152).

आपके मन में कोई अन्य प्रश्न हो तो भी बेझिझक संपर्क करें I​